Haryana gk पानीपत जिले का पूरा इतिहास व सम्पूर्ण जानकारी hssc exams

Haryana gk पानीपत जिले की पूरी जानकारी 

all type hssc exam full explanation

पानीपत का इतिहास


पानीपत का प्राचीन नाम पाण्डुप्रस्थ था। पानीपत महाभारत काल के समय का अत्यधिक पुरातन शहर है जो सोनीपत की भांति, पांडवो द्वारा कोरवों से मांगे गए पांच प्रान्तों में से एक है। पानीपत मध्यकालीन युद्धस्थल रहा है। मुस्लिम शासनकाल के समय पानीपत युद्ध का अखाड़ा बन गया था। यहाँ तीन महत्वपूर्ण लड़ाइयाँ लड़ी गई। पहली लड़ाई 1526 ई० में बाबर ने इब्राहिम लोदी को पराजित किया, दूसरी लड़ाई में 1556 ई० में अकबर के संरक्षक बैरम खां ने हेमू को पराजित किया तथा तीसरी 1761 की लड़ाई में अहमदशाह अब्दाली ने मराठों को पराजित किया था।
1 नवम्बर 1989 को पानीपत जिले का गठन हुआ। प्रारंभ में करनाल जिले की पानीपत एवं असन्ध तहसीलों को अलग करके इस  जिले का सृजन किया गया। बाद में पुनः असन्ध तहसील को करनाल जिले में मिला दिया गया।



पानीपत में उद्योग


आज पानीपत हरियाणा राज्य का एक विकासशील औद्योगिक नगर है। पानीपत शहर अपने परम्परागत हथकरघा उद्योग के लिये जाना जाता है। यहाँ के दरी, कम्बल, बैड कवर, गलीचे व टेपेस्ट्री इत्यादि न केवल भारत मे, बल्कि विदेशों में भी विख्यात है। ऐतिहासिक नगर पानीपत हाथ से बनी उत्कृष्ट एवं कलात्मक ऊनी दरियों एवं हथकरघे के सामानों के कारण प्रसिद्ध है। इसलिए पानीपत को बुनकरों का शहर कहा जाता है। पानीपत में अन्य उद्योग जैसे चीनी, ऊन, रासायनिक खाद, लौह तथा स्टील उद्योग है। यहाँ का पंचरंगा अचार, डिब्बाबंद सूखी सब्जियां तथा बासमती  चावल विदेशों में निर्यात किये जाते है।
भारतीय सेना के ऊनी कम्बलों की कुल मांग का 75 प्रतिशत भाग पानीपत पूरा करता है। हरियाणा के पानीपत जिले में अमोनिया प्लांट स्थापित है।
हरियाणा में तेलशोधक कारखाना पानीपत जिले के बाहोली क्षेत्र के आसन गांव में स्थापित किया गया है।






प्रमुख स्थल




1)  सलारगंज गेट 


यह दरवाजा पानीपत नगर के मध्य में स्थित है जो नवाब सलारगंज के नाम से प्रसिद्ध है। यह दरवाजा प्राचीन वास्तुकला का उत्कृष्ट नमूना है।


2)  काबुली बाग


पानीपत के निकट काबुली बाग में एक मकबरा तथा तालाब बना हुआ है। यह बाग बाबर ने पानीपत की प्रथम लड़ाई में विजय की खुशी  तथा अपनी सबसे प्रिय रानी मुसम्मत काबुली बेगम की याद में बनवाया था।


3)  इब्राहिम लोदी का मकबरा


यह स्थान पानीपत के तहसील कार्यालय के निकट है। सन 1526 में इब्राहिम लोदी ने बाबर के साथ युद्ध किया था, जिसमे उसकी पराजय हुए और वह मारा गया। युद्ध स्थल पर ही इब्राहिम लोदी को दफनाया गया। बाद में अंग्रेजों ने इस स्थान पर एक बहुत बड़ा चबूतरा बनवाया तथा एक पत्थर पर उर्दू में इस कब्र के महत्व के बारे में लिखवाया।


4)  काला अम्ब




पानीपत से 8 किमी दूर काला अम्ब में सन 1761 में पानीपत का तीसरा युद्ध अहमदशाह अब्दाली और मराठा सरदार शिवम भाऊ के मध्य हुआ था। युद्ध मे मराठा सेना की पराजय हुई। कहा जाता है कि इस स्थान पर एक आम का वृक्ष था, पानीपत के तीसरे युद्ध मे मराठों का इतना खून बहा की आम का वृक्ष भी काला पड़ गया। तभी से इस स्थान को काला अम्ब के नाम से जाना जाता है। इस स्थान को हरियाणा सरकार वार - हीरो मेमोरियल के रूप में विकसित कर रही है।


5)  आध्यात्मिक संग्रहालय


पानीपत नगर में अनेकानेक सभी धर्मों के धार्मिक स्थान है। उनमें से विशेषकर यहां की सुप्रसिद्ध आश्रम रोड पर स्थित प्रजापति ब्रह्माकुमारी इश्वरीय विश्वविद्यालय का भव्य भवन जो कि कुछ वर्ष पूर्व बना था, पानीपत के निवासियों के विशेष आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इस भवन को आम व्यक्ति पांच मूर्तियों वाले आश्रम के नाम से जानता है क्योंकि फाइवर की निर्मित पांच प्रमुख धर्मों की भव्य मूर्तियां जो  कि एक ही ज्योति बिंदु शिव की और इशारा कर रही है। अभी तक तो इस संस्था का बाहरी दृश्य ही आकर्षक था लेकिन 16 सितम्बर 1994 को राजयोगिनी दादी प्रकाशमणि ने आद्यात्मिक संग्रहालय का यहाँ उद्धघाटन किया। इस संग्रहालय में मुख्यतः आठ पैनल निर्मित है। परमात्मा दर्शन, सृष्टि दर्शन, आत्म दर्शन, जीवन दर्शन, स्वर्णिम युग दर्शन, राजयोग दर्शन, एकता दर्शन और संगमयुग दर्शन।





6)  नेशनल फर्टिलाइजर्स लिमिटेड (NFL), पानीपत -

 इसकी स्थापना 23 अगस्त 1974 को की गई। इसका कॉरपोरेट आफिस नोएडा में है। nfl के दो लोकप्रिय ब्रांड किसान यूरिया व किसान खाद है।






प्रमुख मेले



1)  माता का मेला -

पानीपत जिले के तिवाह, आदमी एवं बाहोली नामक स्थान पर यह मेला लगता है। इसमें चेत्र के माह में माता जी की पूजा होती है। ऐसी मान्यता है कि इससे छोटे बच्चों को खसरा, चेचक जैसी बीमारियां नही होती।

2)  कलन्दर की मजार का मेला -   

 यह मेला रमजान के महिने के बाद चांद के दिन कलन्दर की मजार पर लगता है। सामुहिक नमाज भी अदा की जाती है।


3)  शिवरात्रि का मेला -    

यह मेला भादड नामक स्थान पर फाल्गुन कृष्ण पक्ष तीज व श्रावण कृष्ण पक्ष तीज के दिन लगता है। इस मंदिर पर लोग दूध और तेल चढ़ाते है।


4)   पाथरी माता का मेला -    

 यह मेला पाथरी नामक स्थान पर चैत्र व आषाढ के माह में हर बुधवार को लगता है। हज़ारों लोग यहाँ मुरादें मांगने व गठजोड़ा उतारने के लिए आते है।






प्रसिद्ध व्यक्तित्व


अल्ताफ हुसैन हाली - 

   1837 में जन्मे पानीपत निवासी उर्दू - फ़ारसी के विद्वान अल्ताफ हुसैन हाली को 1904 में अंग्रेज सरकार ने शम्सुल उलेमा की उपाधि दी।  इनकी प्रमुख रचनाएं हयात - ए - सादी, सफरनामा, नज्म - ए - हाली, मकातिब - ए - हाली, यादगार - ए - ग़ालिब, हयात - ए - जावेद आदि है।






प्रसिद्ध मंदिर


1)  देवी तालाब का मंदिर - 

इस मंदिर को मराठा सरदार मंगल रघुनाथ ने पानीपत की तीसरी लड़ाई में बनवाया था।













2)  शिव सन्नी धाम मन्दिर






प्रमुख मस्जिद एवं मकबरे एवं दरगाह



काबुली बाग
सालारगंज गेट
जलालुद्दीन की दरगाह
सैयद रोशन अली दरगाह
हजरत ख्वाजा शमसुद्दीन का मकबरा
सेख अनाम अलाह मजार
सन्त मीर शाह की मजार
ख्वाजा अस्ताफ अली की दरगाह
इब्राहिम लोदी का मकबरा
हाली की दरगाह
हाली का मकबरा
काला अम्ब
बुअली शाह कलन्दर की दरगाह






जन्म स्थली



मोहित अहलावत   ( अभिनय )
सत्यन कपूर         ( अभिनय )
राजतिलक           ( अभिनय )
अल्ताफ हुसैन हाली





महत्वपूर्ण बिंदु :-

★ पानीपत का समालखा मण्डल लोहा ढालने के उद्योग तथा कृषि यंत्रों के उद्योग के लिए प्रसिद्ध है।
★ पानीपत शहर को city of weavers -- हैंडलूम का शहर कहा जाता है।
★ पानीपत शहर टेक्सटाइल मशीन निर्माण के लिए भी प्रसिद्ध है। भारत की पहली carding machine पानीपत में ही निर्मित की गई।
★ पानीपत में ब्लूजे तथा स्काई लार्क काफी प्रसिद्ध है।
★ पहला अनपूर्ण वस्त्र तथा अनाज बैंक पानीपत में स्थापित किया गया।
★ पानीपत में गुलाब के फूलों की पैदावार काफी मात्रा में की जाती है।





Hariyana gk  से सम्बंधित सभी मुख्य प्रश्न जो पानीपत जिले से बनते है। पूरी जानकारी आपको दी गई है। गलतियों का विशेष ध्यान रखा गया है लेकिन कई बार टाइपिंग मिस्टेक हो जाती है। अगर आपको कोई गलती नजर आए तो कंमेंट में जरूर बताएं।
हम हरियाणा gk को जिलेवार कवर करेंगे। जिस तरह के प्रश्न hssc में पूछे जाते है इसी तरह की अन्य जानकारियो के लिए बने रहे हमारे साथ।







Comments