faridabad haryana gk

Faridabad district haryana gk for  all hssc exam 



फरीदाबाद

15 अगस्त 1979 को फरीदाबाद जिला हरियाणा के 12वें जिले के रूप में अस्तित्व में आया। इस औधोगिक नगरी का विकास देश के विभाजन के उपरांत पाकिस्तान से आये विस्थापितों के पुनर्वास के लिए किया गया था। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) के उपनगरों में फरीदाबाद सबसे अधिक विकसित औधोगिक शहर है। फरीदाबाद क्षेत्र हिना के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है। हरियाणा का सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व वाला जिला (2298) फरीदाबाद है। राज्य में सर्वाधिक जनसंख्या वाला जिला (18,09,733) भी फरीदाबाद है। हरियाणा में  फरीदाबाद में सर्वाधिक नगरीय जनसंख्या ( 14 ,38 ,855) निवास करती है। फरीदाबाद एक औधोगिक जिला है। यह राज्य के कुल राजस्व का 60 प्रतिशत उत्पन्न करता है।










फरीदाबाद का इतिहास


इस नगर की स्थापना सन 1607 ई० में जहांगीर के खजांची बाबा फरीद ने की थी। बाबा फरीद ने यहाँ एक किला, एक तालाब तथा एक मस्जिद बनवाई थी। बाबा फरीद प्रसिद्ध सूफी संत थे। यहां के शासकों ने 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में भाग लिया, जिस कारण से अंग्रेजों ने फरीदाबाद को अपने अधिकार में ले लिया।



मुख्य उद्योग



फरीदाबाद जिले ने औधोगिक क्षेत्र में काफी विकास किया है। जिले में बड़े पैमाने के उद्योगों की संख्या 170 के लगभग है। तथा 10 हजार से अधिक लघु औधोगिक इकाइयां कार्यरत है। जिले के प्रमुख उद्योग-
सूती कपड़ा उद्योग, कागज उद्योग, बाटा शु कम्पनी, ऑटो टायर और ट्यूब, कृषि यंत्र उद्योग, चमड़ा उद्योग, राजदूत मोटरसाइकिल, इलेक्ट्रॉनिकस उद्योग तथा एस्कॉर्ट ट्रैक्टर एवं केलवीनेटर रेफ्रिजरेटर उद्योग आदि प्रमुख है।






मुख्य विश्वविद्यालय व संस्थान



1) मानव रचना अंतराष्ट्रीय विश्वविद्यालय :-

यह विश्वविद्याल फरीदाबाद जिले में 2008 में बनाया गया था|

2) लिंग्या विश्वविद्यालय :-

इसकी स्थापना 2009 में की गई थी|

3) Y.M.C.A. विश्वविद्यालय :-

इसकी स्थापना फ़रीदाबाद जिले में 2010 में की गई थी|

4) राष्ट्रीय पेस्ट मेनेजमेंट शोध संस्थान :-

यह फरीदाबाद जिले में स्थित है| इसकी स्थापना 1988 में की गई थी|





प्रमुख मेले



1) बलदेव छठ का मेला

2) जन्माष्ठमी का मेला

3) कालका का मेला

4) गोगापीर का मेला

5) बाबा उदासनाथ का मेला

6) फुलडोर का मेला

7) सूरजकुंड का मेला

8) कार्तिक सांस्कृतिक मेला

9) कनुवा का मेला

10) रामनवमी के उत्सव

11) रक्षाबंधन का मेला

12) कान्हा गौशाला का मेला

13) शिव चौदस का मेला











प्रमुख स्थल


1) बल्लभगढ :-

बल्लभगढ़ एक ऐतिहासिक नगर है। जनश्रुति के अनुसार एक निर्धन किसान बल्लभसिंह ने इस नगर की नींव रखी थी। देवी कृपा से उस किसान को काफी मात्रा में स्वर्ण भंडार मिला। बताया जाता है कि उसने तथा उसके उत्तराधिकारियों ने सात पीढ़ियों तक आसपास के 200 गाँवो पर राज किया।







एक अन्य जनश्रुति है कि इस नगर को बलराम ने बसाया था। संभवतः इस नगर का नाम बलरामगढ़ से कालांतर में बल्लभगढ़ हो गया। नगर के प्राचीन किले की परिधि से बाहर का नगर बल्लभगढ़ के राजा बहादुर सिंह द्वारा बसाया गया था। यहां का अंतिम राजा सन 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के शहिद नाहर सिंह था।


2) गांव सराय ख्वाजा की सराय :-

फरीदाबाद जिले के गांव सराय ख्वाजा में लगभग 300 वर्ष पुरानी एक सराय है। इस सराय के नाम पर ही गांव का नाम सराय ख्वाजा पड़ा। यह सराय परिख्वाजा ने बनवाई थी।



3) सीही :-

फरीदाबाद के निकट गांव सीही महान भक्त कवि सूरदास की जन्म स्थली माना जाता है। ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में इस स्थान का गुसाईं हरिराम द्वारा रचित 84 वैष्णव में चित्रण किया गया है।

4) बल्लभगढ़ का तालाब, छत्तरी व किला :-

बल्लभगढ़ के राजा अनुरूप सिंह की विधवा पत्नी ने अपने पति की स्मृति में सन 1818 में एक तालाब व छत्तरी बनवाई। बल्लभगढ़ के राजा अजय सिंह की विधवा ने भी अपने पति की याद में एक छत्तरी तथा तालाब का निर्माण करवाया था। इसके द्वारा बनवाई गई छत्तरी आज भी मौजूद है। यहां पर राजा बलराम ने एक किले का निर्माण करवाया जो आज भी खंडहरनुमा स्थिति में मौजूद है।

5) छायंसा :-

यह गांव फरीदाबाद में स्थित है। यह क्षेत्र पहले राजस्थान स्थित जैसलमेर क्षेत्र का एक अभिन्न अंग हुआ करता था। यहां मेवों का बोलबाला था। लोगों का कहना है कि जब श्रवण कुमार यहां से तीर्थ यात्रा पर गए तो वे छायंसा गांव की सीमा से गुजरे थे। गांव में एक ऐसा प्राचीन कुआं अब भी विधमान है जहां प्राचीन कालीन राजा की बेटी मोहर कौर सती हुई थी।


6) राजा नहर सिंह का किला :-

यह किला बल्लभगढ़ में स्थित है। इस किले को बनवाने की योजना राजा बल्लू के शासनकाल में बनाई गई थी, जिसे उसके पुत्र किशन सिंह ने पूरा किया। इसका नक्शा भरतपुर के किले को देखकर बनाया गया था। इस किले के दो मुख्य द्वार भी है, जिन्हें अजित सिंह गेट तथा बल्लू गेट के नाम से जाना जाता है।







अन्य महत्वपूर्ण बिंदु 


★ फरीदाबाद हरियाणा का सबसे पुराना नगर निगम है|
★ बड़खल झील फरीदाबाद में स्थित है|
★ डबचिक स्थल फरीदाबाद के होडल में स्थित है|
★ महात्मा सूरदास की जन्म भी फरीदाबाद के सिहि गॉंव में हुआ था\
★ धौज झील भी फरीदाबाद में है जिसपर लगभग 250 पर्वत है|
★ नाहर सिंह स्टेडियम भी फरीदाबाद में है|
★ फरीदाबाद के तिगावं को सहिदों का गॉंव कहा जाता है|
★ सूरजकुंड झील फरीदाबाद में स्थित है|
★ सनबर्ड पर्यटन स्थल फरीदाबाद में है|
★ मेगपाई और अनगपुर धाम भी फरीदाबाद में है|
★ सूर्य मंदिर और साइन टेम्पल फरीदाबाद में स्थित है|
★ अरावली गोल्फ कोर्स फरीदाबाद में है|
★ दाऊ जी का मंदिर फरीदाबाद में स्थित है|




फरीदाबाद से पूछे जाने वाले विभिन प्रश्न

1) फरीदाबाद जिला कब बना?
2) फरीदाबाद की स्थापना किसने की थी?
3) फरीदाबाद की स्थापना कब हुई?
4) लिंगया विश्विद्यालय कहा पर स्थित है?
5) बाबा उदासनाथ का मेला कहाँ लगता है?
6) सूरजकुंड का मेला कहाँ लगता है?
7) बल्लभगढ़ नगर कौन से जिले में आता है?
8) बल्लभगढ़ किसने बसाया था?
9) कवि सुरदास का जन्म कहा हुआ था?
10) नाहर सिंह का किला कहाँ पर है?
11) राजा नाहर सिंह का किला किसने बनवाया था?
12) बड़खल झील कहाँ पर है?
13) धौज झील कहाँ पर है?
14) सनबर्ड पर्यटन स्थल कहाँ पर है?
15) मैगपाई कहाँ पर है?
16) दाऊ जी का मंदिर किस जिले में है?
17) अरावली गोल्फ कोर्स किस जिले में है?
18) अनागपुर धाम कौनसे जिले में है?
19) फरीदाबाद में गॉंव ख्वाजा की सराय किसने बनवाई थी?
20) कनुवा का मेला किस जिले में लगता है?












Comments